युगान्तर

वो सुबह कभी तो आयेगी..............

गांधीजी!!! आप भी सीख लो!

बैसला जी, राजस्थान में रेल रोकेगें.. अंहिसात्मक तरीके से.. पिछली बार देखी थी अहिंसा? आज फिर है.. गांधीजी आप सुन रहे है ना..आ जाओ वापस अगर सीखना है तो.

1 comments:

कुश May 23, 2008 at 1:49 PM  

एक साल पहले भी ऐसा ही अहिंसात्मक आंदोलन कर चुके है.. जिसमे कई जाने गयी थी.. ये कैसी अहिंसा है.. गाँधी जी यदि जीवित होते तो यही सोच रहे होते..

My Blog List

Followers

About this blog

संकलक

www.blogvani.com चिट्ठाजगत