युगान्तर

वो सुबह कभी तो आयेगी..............

हमारी तो शक्ल पर लिखा है कि हम शरिफ़ है..

त्रिवेंद्रम एयरपोर्ट से -

कन्याकुमारी जिले से वापसी (दिल्ली) की यात्रा थकाने वाली होती है.. कन्याकुमारी के जिला मुख्यालय नागरकोविल से त्रिवेंद्रम और त्रिवेंद्रम से दिल्ली..

प्राथमिकता रहती है कि त्रिवेंद्रम से सुबह कि फ्लाईट से दिल्ली आ जाये.. त्रिवेंद्रम से IC कि फ्लाइट ’नल आर आर’ मतलब IC 466.. (इतनी मलयाली तो समझ आ गई) सुबह ६.१५ पर चलती है.. तो सुबह ५.१५ पर एयपोर्ट के दरवाजे पर दस्तक दे दाली.. और कुछ ही सेकण्डस में हमारी सारी थकान दूर हो गई..

मुख्य दरवाजे पर सुरक्षा कर्मी को टिकट थमाया.. उसने देखा (टिकट का जो हिस्सा उसके सामने था उसमें ज्यादा से ज्यादा ये ही पढ़ सकता था).. कि किस तारिख और समय कि फ्लाईट है.. किसका टिकट है.. शायद उसे मतलब नहीं... और मैं इंतजार कर रहा था कि अब वो मुझसे परिचय पत्र मागेंगा, एक हाथ जेब की और जाने वाला था कि मेरी खुशी का ठिकाना न रहा.. उसने इशारा किया "रहने दो"... मजा आ गया सुबह सुबह प्रमाण पत्र मिल गया कि मै शरिफ़ हूँ.. और ये मेरी शक्ल पर लिखा है..और क्या चाहिये..

मजे कि बात ये कि बोर्डिंग कार्ड जारी करने वाले महाशय ने भी मेरा परिचय पत्र नहीं मांगा... तो आप निश्चिंत रहिये.. हमारी सुरक्षा कुशल हाथों में है.. या कम से कम मैं तो शरिफ़ हूँ..:)

सकुशल पहुचे तो दिल्ली जाकर आपकी प्रतिक्रिया देखेगें..

====================================
यहां देखे आदि आज क्या नई शरारत कर रहा है...

10 comments:

अनूप शुक्ल August 13, 2009 at 7:05 AM  

एयरपोर्ट से शराफ़त का इजहार अच्छा है।

बी एस पाबला August 13, 2009 at 11:34 AM  

हम तो कब से यही बात कह रहे

ओम आर्य August 13, 2009 at 12:26 PM  

सुबह सुबह प्रमाण पत्र मिल गया कि मै शरिफ़ हूँ.. और ये मेरी शक्ल पर लिखा है....padhakar maja aa gaya ......ek achchhi post

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey August 15, 2009 at 4:48 PM  

बहुत शरीफ थे - सुरक्षाकर्मी!

रावेंद्रकुमार रवि August 18, 2009 at 9:04 PM  

"हमारी सुरक्षा कुशल हाथों में है" -
देखिए दूसरा कब आता है,
आपके इस करारे व्यंग्य को समझनेवाला,
जो आपने किसी एयरपोर्ट की
सुरक्षा-व्यवस्था पर किया है?

भूतनाथ August 20, 2009 at 1:00 AM  

hee....hee....hee....haan shakl se to sareef hi lag rahe hain....baki....!!....ab main kyaa kahun....hee....hee....hee....!!!!

विवेक सिंह August 22, 2009 at 6:47 PM  

शरीफ़ होने की बधाई स्वीकारें !

Mrs. Asha Joglekar August 25, 2009 at 7:33 PM  

sahee hai humaree shakl par shayad ye nahee likha tabhee to.............

PD August 26, 2009 at 6:26 PM  

तो आपकी फ्लाईट अंज बजकर पदिअंज मिनट पर थी जिसके लिये आपने आर बजकर पदिअंज मिनट पर दस्तक दे डाली.. :)

कविता September 8, 2009 at 5:57 PM  

Bilkul sahi kaha aapne.
Think Scientific Act Scientific

My Blog List

Followers

About this blog

आदित्य विडियो में

Loading...

संकलक

www.blogvani.com चिट्ठाजगत